जानोस अपसाइकाई सेरे

भारतपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

साँचा:ज्ञानसन्दूक व्यक्ति जानोस अपसाइकाई सेरे (János Apáczai Csere; अपाका, 10 जून, 1625 - क्लुज-नेपोका, 31 दिसंबर 1659) ट्रांसिल्वेनिया में रहने वाले हंगरी के शिक्षक, दार्शनिक, केल्विनिस्ट धर्मशास्त्री थे जो हंगेरियन शिक्षा की महान शख्सियत भी थे। उन्होंने हंगेरियन भाषा (1655) में अब तक का पहला वैज्ञानिक विश्वकोश लिखा और उन्होंने हंगरी में काटीजियनवाद की शुरुआत की।

उनका जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था। उन्होंने क्लुज-नेपोका और अल्बा इयूलिया में केल्विनिस्ट स्कूलों में भाग लिया, जहां उन्हें उनकी उम्र के सबसे प्रगतिशील पुरोहितवादी शिक्षकों में माना जाता था । सन् 1648 और सन् 1653 के बीच उन्होंने नीदरलैंड्स (फ्रेंकर, लीडेन, यूट्रेक्ट) में विश्वविद्यालयों में शिक्षा ग्रहण की, सन् 1651 में उन्होंने हार्डरविज्क में अपने धार्मिक डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की । इन वर्षों के दौरान वह तर्कवाद के आधुनिक दर्शन से परिचित हुए, और उन्‍होने एक विकसित एवं साक्षर समाज का भी अनुभव किया जहां ज्ञान और विज्ञान को बहुत मान्यता दी जाती थी, यह सब उनकी अपनी मातृभूमि की परिस्थितियों के विपरीत था। ट्रांसिल्वेनिया (1653) में लौटने के बाद, उन्हें अल्बा इलिया के केल्विनिस्ट कॉलेज में एक शिक्षक के रूप में नियुक्त किया गया था, लेकिन रूढ़िवादी स्कूल और चर्च संबंधी समाज के साथ कुछ संघर्षों के बाद सन् 1655 के अंत में उन्हें निकाल दिया गया था। 1656 के मध्य में उन्हें क्लूज-नेपोका में कैल्विनिस्ट स्कूल के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था जहाँ वे अपने कुछ शैक्षिक और शैक्षणिक विचारों को प्रस्तुत कर सकते थे। सन् 1658 के अंत में उन्होंने ट्रांसिल्वेनिया के राजकुमार को ट्रांसिल्वेनिया में पहली बार विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए अपनी योजना प्रस्तुत की, लेकिन युद्ध के समय के कारण इस योजना को कभी भी कार्यान्वित नहीं किया गया। तपेदिक में 34 वर्ष की आयु में सन् 1659 के अंत में उनकी मृत्यु हो गई।


सन्दर्भ[सम्पादन]