भीमसेन जोशी

भारतपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

साँचा:स्रोतहीन साँचा:ज्ञानसन्दूक कलाकार

पंडित भीमसेन गुरुराज जोशी (साँचा:Lang-kn, जन्म: फरवरी 4, 1922) शास्त्रीय संगीत के हिन्दुस्तानी संगीत शैली के सबसे प्रमुख गायकों में से एक है।

जीवन[सम्पादन]

पंडित भीमसेन जोशी को बचपन से ही संगीत का बहुत शौक थ वह किराना घराने के संस्थापक अब्दुल करीम खान से बहुत प्रभावित थे। 1933 में वह गुरु की तलाश में घर से निकल पड़े। अगले दो वर्षो तक वह बीजापुर, पुणे और ग्वालियर में रहे। उन्होंने ग्वालियर के उस्ताद हाफिज अली खान से भी संगीत की शिक्षा ली। लेकिन अब्दुल करीम खान के शिष्य पंडित रामभाऊ कुंदगोलकर से उन्होने शास्त्रीय संगीत की शुरूआती शिक्षा ली। घर वापसी से पहले वह कलकत्ता और पंजाब भी गए।

वर्ष 1937 तक पंडित भीमसेन जोशी एक जाने-माने खयाल गायक बन गये थे। वहाँ उन्होंने सवाई गंधर्व से कई वर्षो तक खयाल गायकी की बारीकियाँ भी सीखीं। उन्हें खयाल गायन के साथ-साथ ठुमरी और भजन में भी महारत हासिल की है

पंडित भीमसेन जोशी का देहान्त 25 जनवरी 2011 को हुआ।

भारत रत्न[सम्पादन]

इन्हें 4 नवम्बर, 2008 को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न पुरस्कार के लिए चुना गया, जो कि भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इन्हें भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में सन 1975 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

कर्नाटक के गडक जिले में 4 फ़रवरी वर्ष 1922 को जन्मे पं॰ भीमसेन जोशी को इससे पहले भी पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री समेत कई अलंकरण और सम्मान दिए जा चुके हैं। साँचा:भारत रत्न सम्मानित साँचा:१९८५ पद्म भूषण साँचा:राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक