संगीत पारिजात

भारतपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

साँचा:स्रोतहीन संगीत पारिजात संगीत का एक महत्वपूर्ण ग्रन्थ है जिसकी रचना पण्डित अहोबल ने 17वीं शताब्दी में की थी। यह पुस्तक 1650 ई0 में लिखी गई। दीनानाथ मिश्र जी ने फ़ारसी भाष में इसका अनुवाद किया। इसमें सबसे पहले वीणा के तार पर बारह स्वरों की स्थापना की गई।

लोचन के गृामों का अध्ययन करके इसकी रचना की। इसमें 125 रागों का वर्णन है।


सन्दर्भ[सम्पादन]

साँचा:टिप्पणीसूची

इन्हें भी देखें[सम्पादन]

बाहरी कड़ियाँ[सम्पादन]

  • Sangeet Parijat, translated in Hindi by Kalind Ji, published by SANGEET KARALAYA-HATHRAS

साँचा:आधार